(सेंट्रल सेक्टर स्कीम) वित्त पोषण योजना क्या है What is the (Central Sector Scheme) Financing Scheme

यह सेंट्रल सेक्टर स्कीम के तहत वित्त पोषण योजना शुरू की गयी है यह योजना किसानो को अधिक से अधिक लाभ पहुचाने के उदेश्य से शुरू की जा रही है इस योजना के तहत एक लाख करोड़ रुपये के एग्री इंफ्रा फंड का इस्तेमाल ग्रामीण क्षेत्र में कृषि क्षेत्र से जुड़ा बुनियादी ढांचा (इंफ्रास्ट्रक्चर) तैयार करने में मदद मिलेगी।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड के तहत एक लाख करोड़ रुपये की वित्तपोषण सुविधा का शुभारंभ दिनांक 09/08/2020 को किया । इसके साथ ही प्रधानमंत्री इस वीडियो कॉन्फ्रेंस में पीएम किसान योजना के तहत 8.5 लाख करोड़ किसानों को छठी किस्त के रूप में 17,000 करोड़ रुपये भी जारी किये

वित्त पोषण योजना का उद्देश्य Purpose of financing scheme

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने कृषि अवसंरचना कोष के तहत एक लाख करोड़ रुपये की वित्त पोषण की सुविधा के लिए केंद्रीय क्षेत्र योजना (सेंट्रल सेक्टर स्कीम) को मंजूरी दे दी है। इस एक लाख करोड़ रुपये के एग्री इंफ्रा फंड का इस्तेमाल ग्रामीण क्षेत्र में कृषि क्षेत्र से जुड़ा बुनियादी ढांचा (इंफ्रास्ट्रक्चर) तैयार करने में मदद मिलेगी। इस फंड से ग्रामीण क्षेत्र में कोल्ड स्टोर, वेयरहाउस, प्रसंस्करण इकाई आदि को स्थापित करने के लिए ऋण प्रदान किया जाएगा।

यह भी पढ़े आधार कार्ड को मोबाइल नंबर से ऑनलाइन लिंक कैसे करे
केंद्रीय कृषि क्षेत्र को ‘कृषि आधारभूत संरचना कोष’ के तहत केंद्रीय वित्त पोषण योजना की मंजूरी

कैबिनेट ने ves कृषि अवसंरचना कोष ’के तहत वित्त पोषण सुविधा की केंद्रीय क्षेत्र योजना को मंजूरी दी.
प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने एक नए इंडिया सेंट्रल सेक्टर स्कीम-एग्रीकल्चर इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड को अपनी मंजूरी दे दी है। इस योजना के बाद फसल प्रबंधन के लिए व्यवहार्य परियोजनाओं में निवेश के लिए एक मध्यम दीर्घकालिक ऋण वित्तपोषण की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

यह भी पढ़े :- लेबर कार्ड से कैसे बनाये

योजना के तहत रु एक लाख करोड़ रूपए बैंकों और वित्तीय संस्थानों द्वारा प्राथमिक कृषि साख समितियों (पीएसीएस), विपणन सहकारी समितियों, किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ), स्वयं सहायता समूह (एसएचजी), किसानों, संयुक्त देयता समूहों (जेएलजी), बहुउद्देशीय को ऋण के रूप में प्रदान किया जाएगा। सहकारी समितियाँ, कृषि-उद्यमी, स्टार्टअप, एकत्रीकरण अवसंरचना प्रदाता और केंद्रीय / राज्य एजेंसी या स्थानीय निकाय द्वारा प्रायोजित सार्वजनिक निजी भागीदारी परियोजना है

रुपये की मंजूरी के साथ शुरू होने वाले चार वर्षों में ऋण वितरित किए जाएंगे। चालू वर्ष में 10,000 करोड़ और रु। अगले तीन वित्तीय वर्षों में 30,000 करोड़।

वित्त पोषण योजना का लाभ Funding scheme benefits

  • इस वित्त पोषण सुविधा के तहत सभी ऋणों की सीमा 3% प्रति वर्ष का ब्याज सबवेंशन होगा।
  • यह उपखंड अधिकतम सात वर्षों के लिए उपलब्ध होगा।
  • इसके अलावा, इस गारंटी सुविधा के लिए पात्र गारंटी के लिए क्रेडिट गारंटी कवरेज सूक्ष्म और लघु उद्यमों के लिए क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट (CGTMSE) योजना के तहत उपलब्ध होगा।
  • 2 करोड़ रु इस कवरेज के लिए शुल्क का भुगतान सरकार द्वारा किया जाएगा।
  • एफपीओ के मामले में क्रेडिट गारंटी का लाभ कृषि, सहकारिता और किसान कल्याण विभाग (डीएसीएफडब्ल्यू) के एफपीओ प्रोत्साहन योजना के तहत बनाई गई सुविधा से लिया जा सकता है।
  • भारत सरकार (जीओआई) से बजटीय सहायता के रूप में कुल बहिर्गत रु। 10,736 करोड़ होगा
  • इस वित्तपोषण सुविधा के तहत पुनर्भुगतान के लिए अधिस्थगन न्यूनतम 6 महीने और अधिकतम 2 वर्ष के अधीन हो सकता है।
  • कृषि और कृषि प्रसंस्करण आधारित गतिविधियों के लिए औपचारिक ऋण की सुविधा के माध्यम से परियोजना से ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के कई अवसर पैदा होने की उम्मीद है।

वित्त पोषण योजना का लाभ किन कार्यो में लिया जा सकता है What are the benefits of the financing scheme?

इस एक लाख करोड़ रुपये के एग्री इंफ्रा फंड का इस्तेमाल ग्रामीण क्षेत्र में कृषि क्षेत्र से जुड़ा बुनियादी ढांचा (इंफ्रास्ट्रक्चर) तैयार करने में मदद मिलेगी। इस फंड से ग्रामीण क्षेत्र में कोल्ड स्टोर, वेयरहाउस, प्रसंस्करण इकाई आदि को स्थापित करने के लिए ऋण प्रदान किया जाएगा।

वित्त पोषण योजना के लिए आवेदन कैसे करे How to apply for funding scheme

वित् पोषण योजना के लिए आवेदन आपको एक तरह से वैसे ही करना होगा जैसे जिस प्रकार से बैंक में किसान क्रेडिट कार्ड पर लोन लेते है उसी प्रकार से आपको आवेदन करना होगा

वित्त पोषण योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज Documents Required for Financing Scheme

  • बैंक पास बुक की फोटोकॉपी
  • पेन कार्ड
  • आधार कार्ड
  • जमीन के आवश्यक दस्तावेज (बैंक लोन के अनुसार )
  • वोटर आई डी कार्ड