राजस्थान अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना

इंटर कास्ट मैरिज का मतलब है अलग-अलग जातियों में विवाह करना |अंतर्जातीय विवाहों के बाद दंपत्ति को विपरीत परिस्थितयों में रहना पड़ता है, घर- परिवार से भागना पड़ता है. कई बार पुलिस भी उन पर दबाव डालती है|यह सब कुछ ना हो राजस्थान सरकार में प्रोत्साहन राशि देने का फैसला किया है| उन्हें ‘एकमुश्त’ राशि मिलेगी तो नया घर बसाने में सुरक्षा रहेगी. यदि कोई फर्जी मामला पेश आए तो कानूनी कार्यवाही तो की ही जा सकती है|

सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग की प्रगति रिपोर्ट के अनुसार इस योजना में साल 2011-2012 में 130 जोड़ो को 65 लाख और साल 2012-2013 में 175 जोड़ों को 87.50 लाख रुपये प्रोत्साहन राशि दी गई|राज्य सरकार ने साल 2013-14 में अंतर्जातीय शादी करने वाले 261 जोड़ों को 726 लाख रुपये स्वीकृत किए हैं|

  • उन्हें ‘एकमुश्त’ राशि मिलेगी तो नया घर बसाने में सुरक्षा रहेगी|
  • अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन राशि देने का यही मुख्य लाभ है उनको नया घर बनाने के लिए कोई दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ेगा|
  • सरकार की यह योजना अंतरजातीय विवाह को प्रोत्साहन देने की है। सरकार का प्रयास है कि ऐसी योजनाएं समाज में सामाजिक समरसता पैदा करती हैं।
  • डॉ. सविता बेन अम्बेडकर अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजनान्तर्गत युगल के सुखद दांपत्य जीवन को सुनिश्चित करने के प्रयोजन से पति-पत्नी के लिए 5 लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि में से 2.50 लाख रुपये |
  • दोनों के संयुक्त खाते में 8 वर्ष के लिए फिक्स डिपोजिट के रूप में |
  •  2.50 लाख रुपये दांपत्य जीवन के निर्वहन के प्रयोजनार्थ आवश्यक व घरेलू उपयोग आदि की चीजों की खरीद के लिए |
  • नकद सहायता उनके संयुक्त बैंक खाते के माध्यम से प्रदान किये जायेंगे।

राजस्थान अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना पात्रता

  • आवेदन करने वाला व्यक्ति राजस्थान का रहने वाला होना चाहिए|
  • आवेदनकर्ता की उम्र 35 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए |
  • जो भी युवकों ने आपस में विवाह किया हो वह दोषी नहीं होनी चाहिए अपराधिक मामलों में नहीं होने चाहिए|
  • विवाह का मैरिज सर्टिफिकेट होना चाहिए |
  • जो अंतरजातीय प्रोत्साहन राशि के लिए सालाना आय ढाई लाख से अधिक नहीं होनी चाहिए|
  • जो भी जोड़ा इस राशि खोलेगा उस का विवाह पहली बार ही होना चाहिए यानी कि मैं दुबारा विवाह करने पर किस राशि का हकदार नहीं होगा|
  • विवाह होने के 1 साल के अंदर उसको अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन राशि के लिए आवेदन करना होगा|

इंटर कास्ट मैरिज जरूरी कागजात

  • मैरिज सर्टिफिकेट होना चाहिए
  • आधार कार्ड की कॉपी चाहिए
  • वोटर कार्ड
  • पैन कार्ड
  • जाति प्रमाण पत्र
  • बर्थ सर्टिफिकेट होना चाहिए
  • आय प्रमाण पत्र
  • जोड़े की संयुक्त फोटो