मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना आवेदन

  • कोरोना से माता पिता को खो चुके बच्चों का राजस्थान राज्य सरकार सहारा बनेगी बेसहारा हुए बच्चों एवं पति खो चुकी महिलाओं के लिए अंतरराष्ट्रीय बाल श्रम निषेध दिवस पर मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना के तहत पैकेज की घोषणा की गई है।

मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना में मिलने वाले लाभ क्या है

  1. इसके तहत कॉविड के कारण माता-पिता या माता या पिता को खोने वाले बेसहारा बच्चों को तत्काल सहायता के रूप में ₹100000 दिए जाएंगे।
  2. साथ ही 18 वर्ष पूरे होने तक 2500 प्रतिमाह दिए जाएंगे।
  3. अनाथ बालक व बालिका की उम्र 18 वर्ष होने पर ₹500000 एकमुश्त दिए जाएंगे।
  4. ऐसे बच्चों को 12वीं कक्षा तक पढ़ाई की सुविधा आवासीय विद्यालय या छात्रावास के जरिए निशुल्क उपलब्ध कराई जाएगी।

उल्लेखनीय है कि कोरोना की दूसरी लहर में कई बच्चे बेसहारा हो चुके हैं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ऐसे बच्चों के लिए एक खाका तैयार करने के निर्देश दिए थे।युवाओं को बेरोजगारी भत्ते में प्राथमिकता देय होगी

कोविड 19 महामारी से प्रभावित निराश्रित युवाओं को मुख्यमंत्री युवा संबल योजना के तहत बेरोजगारी भत्ता देने में प्राथमिकता दी जाएगी।

बेसहारा हुई कॉलेज में अध्ययनरत छात्राओं को सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की ओर से संचालित छात्रावासों में प्राथमिकता के आधार पर प्रवेश दिया जाएगा।

कॉलेज में पढ़ने वाली बेसहारा छात्रों को अंबेडकर डीबीटी वाउचर योजना का लाभ भी मिलेगा।

सरकारी योजनाओं कि जानकारी अपने मोबाइल पर लेने के लए व्हाट्स ऐप से इस नंबर परअपना नाम तथा योग्यता लिखकर भेजे |जॉब  हेल्पलाइन नंबर – 8949618516 (इस नंबर को सेव  करके अपना नाम व्हाट्स ऐपपर ही लिखकर भेजे) | 

Join Our  Telegram ChannelJoin Here
अब Jobs की अपडेट पाईये youtube परFollow Here
वर्तमान सरकारी भर्तियों  की लिस्टClick Here